Labels

Tuesday, October 17, 2006

Translated text of Asuph's poem

An impromptu translation to Asuph miyan's poem:

http://asuph.wordpress.com/2006/10/17/eulogy/


yeh samay hai
baatein bandh karnay ka
kinaaron ki,
kiranoke laharon pa
naachnay ki,
pushpon ki, unki
adhbuth khushboo ki,
chandrma ki, aur
uski aashiqmizzazi ki,
sarkon ki bhi,
unki murti, toot-ti
gayab hoti,
kshitizon mein milti,
nishaaniyon ki.

kal
jab sooraj nikalega
sab, sachmuch
aisa ki hoga
par, koi murakh dekhega
issay naya sa
aur chahega
jodna
antar
aur bahar
ke pranaya se
swabhavikta
vislakshan shabadon mein

aur kai
kutte billiyon se
kehraate, kaattenge
jeevan ko
prasttr se jeevan ko
joe rakht-heenn hai
hamari tarah

hamari nassein kachchi hai
koi na koi
hamesha unhein nochega
aaj ya kal

pr in sab ki
mithya
kabhi hampar bhi
hogi haazir
ek din
fir
kavita
ko milegi
ek bematlab maut.

from Quillpad.com


एह समय है
बातें बाँध करनय का
किनारों की,
किरणोके लहरों पा
नाचहनय की,
पुष्पों की, उनकी
आधबुत ख़ुश्बू की,
चंद्रमा की, और
उसकी आशिक़मीज़्ज़ाज़ी की,
सार्कों की भी,
उनकी मूर्ति, टूट-टी
ग़ायब होती,
क्षितिज़ों में मिलती,
निशानियों की.

कल
जब सूरज निकलेगा
सब, सचमुच
ऐसा की होगा
पैर कोई मुरख देखेगा
इससाय नया सा
और चाहेगा
जोड़ना
अंतर
और बाहर
के प्रणाया से
स्वाभाविकता
विसलक्षण शबाड़ों में

और कई
कुत्ते बिल्लियों से
केहराते, काततेंगे
जीवन को
प्रस्ततर से जीवन को
जोए राख़्त-हीन्न है
हमारी तरह

हमारी नस्सें कच्ची है
कोई ना कोई
हमेशा उन्हें नोचेगा
आज या कल

प्र इन सब की
मिथ्या
कभी हमपर भी
होगी हाज़िर
एक दिन
फिर
कविता
को मिलेगी
एक बेमतलब मौत.